Thursday, 10 March 2016

साधु और संत सबसे बडे देशद्रोही’, उन्हें नदी में फेंक देना चाहिए : पप्पू यादव

पप्पू यादव का धर्मद्रोही वक्तव्य !

  • जिहादी आतंकवादीयों को गंगा में फेंक दो, एेसा पप्पू यादव क्यो नहीं कहते 

बिहार – जन अधिकार पार्टी के प्रमुख और मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव ने देशद्रोह पर बात करते समय सहरसा में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि, उन्हें किसी भी सूरत में भारत के विरूद्ध बोलने का अधिकार मिला है।
उन्होंने कश्मीर में राष्ट्रीय ध्वज के अपमान को भी वैध बताया और कहा कि, जम्मू एवं कश्मीर में तिरंगे का अनादर कोई नई बात नहीं है।
पप्पू यादव ने अपने संबोधन में महिषासुर को गरीबों का प्रतिनिधि बताया और कहा कि गरीबों के शोषण के विरूद्ध आवाज उठाने वालों को हमेशा कुचला जाता रहा है। यह सिलसिला आज भी जारी है। गरीबों को मंदिर नहीं जाना चाहिए क्योंकि इसका कोई फायदा नहीं। उन्हें विद्या के मंदिर विद्यालयों में जाना चाहिए।

 ‘साधु और संत सबसे बडे देशद्रोही’

साधु और संत इस देश के सबसे बडे देशद्रोही हैं। मंदिर में बैठे सभी संत ढोंगी है और इन लोगों को गंगा में फेंक देना चाहिए।
उन्होंने यह भी कहा कि, हैदराबाद विश्वविद्यालय के शोध छात्र रोहित वेमुला को आत्महत्या करने पर मजबूर करने वाले अधिकारियों एवं राजनेताओं को सरेआम गोली मार देनी चाहिए।

No comments:

Post a Comment