Tuesday, 8 March 2016


खुलासा : जेएनयू में भगवान राम को दी गई थी फांसी और मना था 76 जवानों की शहादत का जश्न





नई दिल्ली। आपमें से बहुत से लोग अभी तक इस बात से अंजान होंगे कि जेएनयू कैसी-कैसी गतिविधियों में शामिल रहा है। आपको बता दें कि कभी जेएनयू में भगवान राम को फांसी पर चढ़ाया गया था। 9 फरवरी 2016 के दिन जब जेएनयू में देश को तोड़ने के नारे लगाए गए तब यह मामला लोगों के सामने आने लगा और इसके साथ ही खुलने लगी जेएनयू की हकीकत। देश विरोधी नारों के बाद अब जेएनयू के सुरक्षा विभाग का एक नोट सामने आया है।

जेएनयू में भगवान राम को दी गई थी फांसी

यह नोट साल 13 अक्‍टूबर 2014 का है और इस नोट में भगवान राम के आत्‍महत्‍या करने के बारे में बताया गया है। इसमें कहा गया है कि सात अक्‍टूबर 2014 को जेएनयू के कमल कॉम्‍पलेक्‍स के सामने के मोड़ पर एक पेड़ से पुतले को गर्दन में रस्‍सी बांधकर लटकाया गया है। ऐसा लग रहा था कि किसी ने पुतले को फांसी दी थी। उस पुतले के ऊपर ‘राम’ लिखा था। वहीं घटना की जगह पर ही कुछ छपे हुए पर्चे भी पाए गए। इन पर्चों में ‘आपका भगवान मर्यादा पुरषोत्‍तम राम’ द्वारा आत्‍महत्‍या करने का विवरण दिया गया था।
इस घटना से धार्मिक सौहार्द न बिगड़े इसलिए जेएनयू प्रशासन ने इसे दबा दिया था। जेएनयू में तैनात दो सुरक्षा कर्मियों ने पुतले को उतारकर अपनी कस्‍टडी में ले लिया था। इसके बाद उन्‍होंने इसकी जानकारी जेएनयू के मुख्‍य सुरक्षा अधिकारी को दी तो उन्‍होंने मामले को दबा देना ही उचित समझा। नोट के मुताबिक सुरक्षा कर्मियों ने दावा किया था कि कुछ छात्र उस पुतले के बारे में पूछते हुए उनतक आए थे। इससे उन्‍हें शक हुआ था कि वे छात्र इस घटना में शामिल हैं। उन्‍होंने यह भी दावा किया था कि सामने लाए जाने पर वह उन छात्रों की पहचान भी कर सकते हैं।
वहीं साल 2010 का एक मामला ये भी सामने आया है कि जेएनयू के कुछ छात्रों ने माओवादियों द्वारा मारे गए 76 सीआरपीएफ जवानों की शहादत पर जश्‍न मनाया था। इस जश्‍न में डेमोक्रेटिक स्‍टूडेंट यूनियन और ऑल इंडिया स्‍टूडेंट एसोशिएसन के छात्र शामिल थे। इस मामले में उस समय एनएसयूआई के जनरल सेक्रेटरी शेख शहनवाज ने बताया था कि डीएसयू और आईसा के छात्रों ने छत्‍तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में माओवादियों द्वारा मारे गए 76 सीआरपीएफ जवानों का जश्‍न मनाने के लिए एक मीटिंग का आयोजन किया था। उन्‍होंने बताया था कि इस कार्यक्रम में इन छात्रों ने भारत मुर्दाबाद और माओवाद जिंदाबाद के नारे भी लगाए थे।

No comments:

Post a Comment