Tuesday, 12 April 2016


एक्सक्लूसिव – क्या पुतिंगल मंदिर में आतिशबाजी की आड़ में थी बड़े धमाके की तैयारी ?


नवरात्र के दौरान बीती रात केरल के पुत्तिंगल मंदिर में आग लगने से अब तक 108 लोगों की मौत हो चुकी है. स्थानीय पुलिस ने मरने वालों की संख्या की आधिकारिक पुष्टि की है. हादसे में 383 से ज्यादा लोगों के घायल होने की भी आशंका है !
केरल के पुतिंगल मंदिर में के बगल में एक्सप्लोसिव से भरी तीन कार मिली है। सोमवार दोपहर इसकी जानकारी मिलते ही बम स्क्वॉड मौके पर पहुंच गई है। इस बीच आतिशबाजी के लिए जिम्मेदार पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। रविवार तड़के आतिशबाजी के दौरान आग लगने से मरने वाली की तादाद 112 हो गई है। केरल में मंदिर बोर्ड ने आतिशबाजी पर रोक लगाने से किया इनकार…
car2_1460369783
– केरल में मंदिर एडमिनिस्ट्रेशन की सबसे बड़ी बॉडी त्रावणकोर देवासम बोर्ड ने किसी भी मंदिर में आतिशबाजी पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है।
– त्रावणकोर देवासम बोर्ड केरल के करीब 1200 मंदिरों का मैनेजमेंट संभालने वाली बॉडी है। इसके चीफ ने पुतिंगल मंदिर में हादसे पर दुख जताया है।
– बोर्ड के चेयरमैन ने कहा कि हादसे से हम दुखी हैं लेकिन मंदिरों में होने वाली आतिशबाजी पर कोई रोक नहीं लगा सकता।
– उन्होंने कहा- यह एडमिनिस्ट्रेशन की जिम्मेदारी है कि वह इस तरह के हादसों को रोकने के अरेंजमेंट करे।
– दूसरी ओर, मंदिर में आतिशाबाजी के आरोप में पुलिस ने पांच लोगों को हिरासत में लिया है।
– घटना की जांच अब क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है।
मंदिर का मैनेजमेंट संभालने वाले लोग गायब
– पुलिस ने हादसे के बाद पुतिंगल मंदिर के टॉप मैनेजमेंट के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।
– केस दर्ज होने के बाद से मंदिर एडमिनिस्ट्रेशन के लोग गायब हो गए हैं। पुलिस उनकी तलाश कर रही है।
– इन लोगों की तलाश में दिक्कत इसलिए भी आ रही है, क्योंकि सभी के मोबाइल फोन स्विच ऑफ हो गए हैं।
– सुरेंद्रन और उमेश नाम के दो शख्स की पुलिस को खास तौर पर तलाश है। बताया जाता है कि इन दो लोगों ने ही आतिशबाजी का इवेंट ऑर्गनाइज किया था।
– कुछ खबरों में कहा गया है कि इन्हें गंभीर हालत में तिरुअनंतपुरम के हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया है। हालांकि, पुलिस ने इस बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है।
पुलिस पर दबाव
– एक लोकल अखबार के मुताबिक, मंदिर कमेटी के लोगों को यहां के कुछ लोकल पॉलिटिशियन्स का सपोर्ट है।
– बताया जाता है कि इन्हीं नेताओं ने आतिशबाजी पर बैन के बावजूद इसके खिलाफ कार्रवाई नहीं होने दी।
मंदिर में आतिशबाजी के खिलाफ शिकायत पर मिली थी धमकी
– मंदिर में आतिशबाजी के खिलाफ यहां की एक फैमिली ने पहले ही शिकायत की थी।
– उस शिकायत का असर भी हुआ था और डीएम ने उसी आधार पर परमिशन देने से इनकार कर दिया था।
– इस बीच, शिकायत करने वाली पंकजाक्षी अम्मा ने कहा कि उनकी फैमिली को मारने की धमकी दी गई थी।
– उनके बेटे प्रकाश ने कहा कि मंदिर के लोगों ने हमें उस वक्त धमाकाया था, जब हम डीएम के पास शिकायत लेकर गए थे।
मंदिर को भारी नुकसान, एक हिस्सा गिरा
– पटाखों के धमाकों की वजह से मंदिर को भारी नुकसान पहुंचा है।
– मंदिर का एक हिस्सा ढह गया है।
– हादसे में 300 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं।
जा सकती थी सैकड़ों जाने
– पुतिंगल मंदिर में भयानक आग के वक्त हजारों की जान जा सकती थी।
– आतिशबाजी के वक्त रविवार सुबह करीब तीन बजे मंदिर परिसर में 10 से 15 हजार लोग मौजूद थे।
– लोकल एडमिनिस्ट्रेशन का कहना कि प्रोग्राम के लिए कोई इजाजत नहीं ली गई थी।

No comments:

Post a Comment