Monday, 25 April 2016

भारतीय वामपंथी - 1962 युद्ध में कर रहे थे चीन का समर्थन, कई हुए थे गिरफ्तार





1962 ये वो साल था जब चीन ने भारत पर रातोंरात हमला कर दिया था, इस युद्ध में भारत के हज़ारो जवानो के अपने प्राणों की आहुति दी, इस युद्ध के बारे में हम काफी कुछ जानते है पर उस समय भारत के वामपन्थी क्या कर रहे थे !

आपको जान कर हैरानी होगी की वामपंथियों के गढ़ केरल में कई वामपंथी नेताओं को 1962 के युद्ध के बाद किया गया था गिरफ्तार, कई वामपंथी नेता बंगाल में भी किये गए थे गिरफ्तार

दरअसल चीन एक वामपंथी देश है और भारत के वामपंथी चीन को अपना गुरु मानते है, 1962 युद्ध के समय देश में वामपंथी नेता चीन के पक्ष में बयानबाजी करते थे भारत की बुराई करते थे

अब नक्सली जो भारत में आतंक मचाते है वो सब भी वामपंथी ही हैं और चीन से पैसा और हथियार पाते है, किसी भी युद्ध की परिस्तिथि में माओवादी/वामपंथी भारत के खिलाफ ही जंग छेड़ देंगे

जिस तरह भारत के वामपंथी सेना को बलात्कारी, कश्मीर की आज़ादी, हिन्दुओ से नफरत के कार्यक्रम चलाते रहते है भविष्य में ये वामपंथी देश के लिए बड़ा ख़तरा जरूर सिद्ध होंगे, इन लोगों का काला इतिहास भी ये बात बताता है।


-- 
हिन्दू परिवार संघटन संस्था
 Cont No-08088080870
Www.hinduparivar.org

No comments:

Post a Comment