Saturday, 23 April 2016

विज्ञान के लिए पहेली है यह पत्थर : सात हाथी भी 

नहीं हिला सके



विज्ञान के लिए पहेली है यह पत्थर : सात हाथी भी नहीं हिला सके

भगवान कृष्ण की लीला अद्भुत है। आज भी श्रीकृष्ण से जुड़े ऐसे कई स्थान हैं, जिनका रहस्य विज्ञान भी नहीं सुलझा पाया है। कृष्ण की बटर बॉल नाम से प्रसिद्ध एक चट्टान ऐसी ही एक अद्भुत पहेली है। यह विशाल चट्टान है, जो चेन्नई के निकट महाबलिपुरम में स्थित है।

विशाल गोले जैसी आकृति की यह चट्टान एक ढलान वाली पहाड़ी पर है। ढलान के बावजूद यह अपने स्थान पर अटल है। इसे श्रीकृष्ण का बटर बॉल कहा जाता है। मान्यता है कि यह चट्टान स्वर्ग से यहां आई थी। यह कृष्ण के प्रिय मक्खन का स्वरूप है।



^^^^^^^^^^
पत्थर की ऊंचाई करीब 20 फीट है। ढलान पर स्थिति होने एवं काफी वजनी होने के बाद भी यह अपनी जगह से नहीं हिलती। इस प्रकार यह भौतिकी के नियमों को चुनौती देती प्रतीत हो रही है।
जब लोग इसे देखते हैं तो ऐसा लगता है कि यह किसी भी क्षण ढलान से नीचे आ जाएगी, परंतु काफी वर्षों के बाद भी यह अपनी जगह बरकरार है। ऐसा क्यों है? इसके पीछे कई अनुमान लगाए जाते हैं।
हर कोशिश पर भारी- कहा जाता है कि दक्षिण भारत पर राज करने वाले पल्लव राजवंश ने इस पत्थर को यहां से हटाने के लिए प्रयास किया था, परंतु उन्हें सफलता नहीं मिली। इसी प्रकार 1908 में मद्रास के गर्वनर ने इसे यहां से हटाने का हुक्म दिया, जिसके लिए सात हाथियों की मदद ली गई, लेकिन हाथियों का जोर भी इसे यहां से हिला नहीं सका।
आज भी यह पत्थर अपने स्थान पर है और लोग इसे दूर-दूर से देखने आते हैं। लोग इसे हिलाने के लिए जोर आजमाइश करते हैं। वहीं यह पत्थर उनकी हर कोशिश पर भारी पड़ता है। 

No comments:

Post a Comment