Thursday, 23 February 2017

शिवरात्रि के अवसर पर भारत से भी 200 तीर्थयात्रियों का जत्था पाकिस्तान गया है।

शुक्रवार को महाशिवरात्रि है। महाशिवरात्रि पर भारत में जहां हर जगह मंदिरों में भक्तों का तांता लगा रहता है वहीं पाकिस्तान के दूसरे प्रांतों में भी ऐसे कई शिव मंदिर हैं जहां हर साल शिवरात्रि पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं।

शिवरात्रि के अवसर पर भारत से भी 200 तीर्थयात्रियों का जत्था पाकिस्तान गया है। शिवरात्रि पर ये सभी पाकिस्तान के मशहूर शिव मंदिरों में पूजा करेंगे।

यहां स्थित कटासराज शिव मंदिर 900 साल पुराना है। बता दें कि पाकिस्तान सरकार ने कुछ सालों पहले ही भारत के यात्रियों को यहां आने की अनुमति दी है। 

पाकिस्तान में सबसे बड़ा शिव मंदिर कटासराज है, जो लाहौर से 270 किमी दूर चकवाल जिले में स्थित है। मान्यता है कि वनवास के दौरान पाण्डव करीब 4 चार साल तक यहां रहे थे और इन्होंने कटासराज शिवलिंग की पूजा की थी।

यह मंदिर 900 साल पुराना है और इसके पास एक सरोवर है। इस सरोवर के विषय में मान्यता है कि सती के अत्मदाह करने के बाद महादेव जब सती का शव लेकर भ्रमण कर रहे थे तब उनकी आंखों से दो बूंद आंसू गिर थे। 
उनके आंसुओं की दो बूंदे धरती पर गिरीं, जिनसे यह सरोवर बना। इनमें से एक कुंड भारत के पुष्कर में ब्रह्म सरोवर है तो दूसरा कटासराज मंदिर में। इस सरोवर का पानी दो रंग का है। जहां सरोवर कम गहरा है वहां का पानी हरा, जबकि गहराई वाली जगह का पानी नीला है।

No comments:

Post a Comment