Sunday, 21 August 2016

जानिए महादेव की इस यात्रा के बारे में जो        है अमरनाथ यात्रा से भी कठिन!!!


आपने शिव जी के दर्शन के लिए अमरनाथ की यात्रा कर ली होगी! लेकिन देवताओ के तपस्थली हिमाचल में कुल्लू जिले में श्रीखंड महादेव मंदिर है! ये मंदिर करीब 18,300 फुट उचाई पर स्थित है! यहाँ पर विश्व से धार्मिक यात्रा करने लोग जगह जगह से आए है! ये 15 वर्ष से देश के हर एक कोने से लोग दर्शन करने पहुँचते है! बता दे इस मंदिर के लिए 25 किलोमीटर की सीधी चढाई यानि अग्नि परीक्षा देनी पड़ती है! जब इस यात्रा में काफी लोगो की मौत भी हो गई है

श्रीखंड यात्रा के आगे अमरनाथ यात्रा की चढ़ाई कुछ भी नहीं है। ऐसा उन लोगों का कहना है जो दोनों जगह होकर आए हैं। श्रीखंड महादेव हिमाचल के ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क से सटा है। स्थानीय लोगों के अनुसार, इस चोटी पर भगवान शिव का वास है। इसके शिवलिंग की ऊंचाई 72 फीट है। यहां तक पहुंचने के लिए सुंदर घाटियों के बीच से एक ट्रैक है। अमरनाथ यात्रा के दौरान लोग जहां खच्चरों का सहारा लेते हैं। वहीं, श्रीखण्ड महादेव की 35 किलोमीटर की इतनी कठिन चढ़ाई है, जिसपर कोई खच्चर घोड़ा नहीं चल ही नहीं सकता। श्रीखण्ड का रास्ता रामपुर बुशैहर से जाता है। यहां से निरमण्ड, उसके बाद बागीपुल और आखिर में जांव के बाद पैदल यात्रा शुरू होती है।


क्या है पौराणिक महत्व-
श्रीखंड की पौराणिकता मान्यता है कि भस्मासुर राक्षस ने अपनी तपस्या से शिव से वरदान मांगा था कि वह जिस पर भीअपना हाथ रखेगा तो वह भस्म होगा। राक्षसी भाव होने के कारण उसने माता पार्वती से शादी करने की ठान ली। इसलिए भस्मापुर ने शिव के ऊपर हाथ रखकर उसे भस्म करने की योजना बनाई लेकिन भगवान विष्णु ने उसकी मंशा को नष्ट किया। विष्णु ने माता पार्वती कारूप धारण किया और भस्मासुर को अपने साथ नृत्य करने के लिए राजी किया। नृत्य के दौरान भस्मासुर ने अपने सिर पर ही हाथ रख लिया और भस्म हो गया। आज भी वहां की मिट्टी व पानी दूर से लाल दिखाई देते हैं
रीखंड यात्रा में अठारह हजार तीन सौ फुट की ऊंचाई पर साँस लेने के लिए ऑक्सीजन की कमी है! इस बीच लगभग एक दर्जन से अधिक धार्मिक और देव शिलाएं है! भगवान शिव की श्रीखंड में शिवलिंग है! और यहाँ से लगभग पचास मीटर पहले पार्वती, गणेश, कार्तिक स्वामी की प्रतिमाएं है!
कैसे पहुंचे श्रीखंड-
श्रीखंड जाने के लिए शिमला से रामपुर 130 किलोमीटर व रामपुर से बागीपुल 35 किलोमीटर दूर है। निरमंड के बागीपुल से जावं तक सात किलोमीटर वाहन योग्य सड़क है। उसके बाद फिर 25 किलोमीटर की सीधी चढ़ाई शुरू होती है। इस यात्रा के बीच में सिंहगाड़, थाचरू, कालीकुंड, भीमडवारी, पार्वती बाग, नयनसरोवर व भीमबही आदि स्थान आते हैं। और सिंहगाड़ यात्रा का बेस कैंप है। यहाँ पर पहले श्रद्धालु अपना नाम दर्ज करने के बाद यात्रा की अनुमति दी जाती है।



No comments:

Post a Comment