Tuesday, 28 March 2017

आज है 1857 की क्रान्ति का प्रथम दिन - 29 मार्च

आज है 1857 की क्रान्ति का प्रथम दिन - 29 मार्च


ब्रिटिश पराधीनता के विरुद्ध सम्पूर्ण भारत के सामूहिक प्रतिकार के प्रथम दिन आज अर्थात 29 मार्च जैसे परम गौरवमय दिवस की सम्पूर्ण भारतवासियों को अनंत शुभकामनाएं व् इस महायुद्ध के उद्घोषक महाबलिदानी मंगल पांडेय को शत शत नमन.  आज ही के दिन गौ माता की चर्बी के नाम पर हिंदुओं के धर्म को भ्रस्ट कर रहे व् पराधीनता की बेड़ियो में जकड़े अंग्रेजों के विरूद्ध एक महायोद्धा मंगल पांडेय ने बागी हो कर बस खुद अपने दम पर युद्ध का एलान कर दिया था जिसके बाद पूरा भारत स्वतन्त्रता की इस मुहिम में उठ खड़ा हुआ था. आज़ादी के इस शुभारम्भ में मंगल पांडेय ने अपने प्राण स्वाहा करने से पहले ह्यूसन व् वॉघ को ढेर कर दिया था. कारतूसों में गाय की चर्बी के साथ कुछ कारतूसों में सूअर की भी चर्बी मिलाई गयी थी पर अफ़सोस कोई और मंगल पांडेय जैसा साहस नहीं कर सका था जिसे अपनी नौकरी , अपने वेतन से बढ़ कर मातृभूमि से प्रेम रहा हो . और मंगल पांडेय इस महायुद्ध में अकेला लड़ा .  प्रथम स्वाधीनता संग्राम के शुभारम्भ दिन समस्त भारत के राष्ट्रप्रेमियों व धर्मनिष्ठों को अनंत शुभकामनाये. 

No comments:

Post a Comment