Thursday, 16 March 2017

अब नैशनल हेल्थ पॉलिसी के जरिए बड़ा दांव खेल सकते हैं पीएम मोदी





मोदी सरकार ने लंबी जद्दोजहद के बाद नैशनल हेल्थ पॉलिसी को अंतिम रूप दे दिया है और अगले कुछ दिनों में इसके पास होने की उम्मीद है। देश के 80 फीसदी लोगों का इलाज पूरी तरह सरकारी अस्पताल में मुफ्त हो। इसमें दवा, जांच और सभी तरह का इलाज



















नोटबंदी के बाद गरीबों के बीच जनाधार बढ़ाने में जुटे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पांच राज्यों के चुनाव के बाद इस दिशा में एक और बड़ा दांव खेलने वाले हैं। मोदी सरकार ने लंबी जद्दोजहद के बाद नैशनल हेल्थ पॉलिसी को अंतिम रूप दे दिया है और अगले कुछ दिनों में इसके पास होने की उम्मीद है। मौजूदा ड्राफ्ट में प्रधानमंत्री के निर्देश पर कुछ बदलाव किए गए हैं। सरकार का दावा है कि नई हेल्थ पॉलिसी गेमचेंजर साबित होगी और 2019 में बड़ा मुद्दा बनकर सरकार को फायदा पहुंचाएगी।
मुफ्त दवा, इलाज और जांच
इस पॉलिसी का टारगेट यह है कि देश के 80 फीसदी लोगों का इलाज पूरी तरह सरकारी अस्पताल में मुफ्त हो। इसमें दवा, जांच और सभी तरह का इलाज शामिल है। अभी मात्र 20 फीसदी मरीजों का इलाज सरकारी अस्पताल में हो पाता है और 80 फीसदी मरीजों को प्राइवेट अस्पतालों में महंगे इलाज की शरण में जाना पड़ता है। इस पॉलिसी में पब्लिक हेल्थ सिस्टम को किस तरह से दुरुस्त किया जाएगा, इस बारे में विस्तार से बताया गया है। हालांकि राज्यों के लिए इस नीति को मानना अनिवार्य नहीं होगा और सरकार की नई नीति एक मॉडल के रूप में उन्हें दे दी जाएगी। वे इसे लागू करें या नहीं, यह संबंधित राज्य सरकार पर निर्भर करेगा। 2002 के बाद पहली बार देश में हेल्थ पॉलिसी को नए सिरे से पेश किया जा रहा है।

No comments:

Post a Comment