Tuesday, 7 March 2017

हाजी कॉलोनी में स्थानीय मुस्लिम ने आतंकी को दी थी शरण

लखनऊ में घिरा ISIS आतंकी, भाई से बात कराकर सरेंडर की कोशिश में ATS

यूपी में आखिरी दौर के चुनाव से पहले लखनऊ में एक आतंकी के घर में छिपे होने की खबर से खलबली मची है. यूपी एटीएस इस संदिग्ध आतंकी को दबोचने में लगी है. इस आतंकी के तार भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन से जुडे होने का शक जताया जा रहा है. आतंकी का नाम सैफुल्लाह बताया जाता है और फिलहाल उससे साथ मुठभेड़ जारी है. पढ़ें इस बड़ी खबर के बड़े अपडेटः-
-भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन (59320) उज्जैन की तरफ जा रही थी. कालापीपल में जबड़ी स्टेशन के पास सुबह करीब 10 बजे ट्रेन में जोर का धमाका हुआ. धमाके में चार लोग जख्मी हुए जबकि ट्रेन के एक हिस्से की छत में छेद हो गया.
-एमपी पुलिस ने घटना की जांच शुरू की तो पांच संदिग्धों पर शक की सुई गई. इनमें से तीन को एमपी के पिपरिया से ही एक बस से गिरफ्तार कर लिया गया. दो संदिग्धों के यूपी में होने की खबर आई. आरोपियों के ISIS से जुड़े होने की खबर है. 
-इनपुट के आधार पर पुलिस ने चौथे संदिग्ध को कानपुर से गिरफ्तार कर लिया. केरल पुलिस से यूपी पुलिस को इनपुट मिला की पांचवां संदिग्ध लखनऊ के ठाकुरगंज की हाजी कॉलोनी में एक घर में छुपा है.
लिस जब इस घर में पहुंची तो पता चला की सैफुल्लाह नाम का शख्स यहां किराये से रहता है. जिस घर में वो था उसके मालिक की 2014 में हत्या हो गई थी. सैफुल्लाह को सरेंडर करने को कहा गया लेकिन उसने इससे इनकार कर दिया.
-फिलहाल यूपी पुलिस और एटीएस सैफुल्लाह को काबू करने में जुटी है. मौके पर तमाम वरिष्ठ अधिकारी मौजूद हैं. सैफुल्लाह अंदर से रुक-रुककर फायरिंग कर रहा है.
-कानपुर से गिरफ्तारी और लखनऊ में घेराबंदी के बाद यूपी के तमाम शहरों में पुलिस हाईअलर्ट पर आ गई है. वाराणसी जैसे वो इलाके जहां कल वोटिंग होनी है, वहां और ज्यादा ऐहतियात बरती जा रही है.
\एमपी पुलिस का दावा है कि सुबह ट्रेन में जो ब्लास्ट हुआ वो दरअसल आईईडी से किया गया था. हालांकि उसकी तीव्रता कम थी जिसकी वजह से बड़ी जनहानि नहीं हुई. पुलिस के मुताबिक ये धमाका दरअसल एक ट्रायल था और आतंकियो की योजना एक बड़े बम ब्लास्ट की थी.
-पहले ट्रेन धमाका और फिर आतंकियों की गिरफ्तारी से केंद्रीय गृहमंत्रालय भी हरकत में आ गया है. उसमें राज्य सरकार से इस पूरे मामले की रिपोर्ट तलब की है.
-यूपी के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) दलजीत सिंह चौधरी ने कहा कि हम उसके भाई के माध्यम से सरेंडर कराने की कोशिश करा रहे हैं.

No comments:

Post a Comment