Friday, 17 March 2017

जस्टिस कर्णन ने सुप्रीम कोर्ट को लिखी चिट्ठी, 14 करोड़ का मांगा हर्जाना
कोलकाता हाईकोर्ट के जज सीएम कर्णन ने सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को चिट्ठी लिखी है। जिसमें उन्होंने 14 करोड़ के हर्जाने की मांग की है। सुत्रों के मुताबिक, चिट्ठी में कर्णन ने लिखा की उन्हें मानसिक रूप से परेशान किया गया है और उनकी बेइज्जती की गई है, जिससे उनके सम्मान को ठेस पहुंची है। कर्णन ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद शुक्रवार को कहा कि उनके खिलाफ अवमानना मामले में जमानती वारंट जारी करना असंवैधानिक है। 8 फरवरी से सात जज मुझे कोई भी न्यायिक और प्रशासनिक कार्य नहीं करने दे रहे थे। इन लोगो ने मुझे परेशान कर दिया है और मेरा सामान्य जीवन खराब कर दिया है। इसलिए, मैं सभी सात न्यायाधीशों से मुआवजे के रूप में 14 करोड़ रुपये लूंगा। आपको बता दें कि कोलकाता हाईकोर्ट के जस्टिस सीएस कर्णन ने 23 जनवरी को पीएम मोदी को एक पत्र लिखकर सुप्रीम कोर्ट और मद्रास हाईकोर्ट के जजों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। कर्णन ने पीएम को लिखे अपने पत्र में 20 जजों के नाम भी लिखे थे और उनके खिलाफ करप्शन की जांच कराने की मांग की थी। कर्णन के इस कदम के बाद सुप्रीम कोर्ट ने 8 फरवरी को कर्णन के खिलाफ नोटिस जारी कर पूछा था कि क्‍यों ना उनके इस पत्र को कोर्ट की अवमानना माना जाए। खास बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट के नोटिस के बाद भी जब कर्णन इस मामले में अदालत में पेश नहीं हुए तो मामले की सुनवाई को टाल दिया गया था। इसके साथ ही उच्चतम न्यायालय ने सख्ती दिखाते हुए कर्णन पर 10,000 रुपए का जुर्माना लगाया था। 


No comments:

Post a Comment