Thursday, 9 March 2017

सैफुल्ला के मारे जाने बाद हुआ खुलासा, एयरफोर्स में काम कर चुका जीएम् खान है असली सरगना


 मंगलवार को भोपाल-उज्जैन ट्रेन में हुए विस्फोट के बाद पकडे गए तीन आतंकियों के इनपुट पर सैफुल्ला तक पहुंची यूपी एटीएस ने अब एक और खुलासा किया है. यूपी एटीएस के मुताबिक सैफुल्ला , ISIS के यूपी मोड्यूल का सरगना नही था. मिली जानकारी के अनुसार कानपुर का रहने वाला जीएम् खान , मोड्यूल का असली सरगना है. मिले सबूतों के आधार पर कहा जा रहा है की ISIS , भारत में किसी बड़े हमले की जुगत में था.एटीएस जीएम् खान की तलाश कर रही है, जो फ़िलहाल फरार बताया जा रहा है. उधर करीब 12 घंटे की मुठभेड़ के बाद ISIS का संदिग्ध आतंकी सैफुल्ला मारा गया. एटीएस के साथ हुई मुठभेड़ में सैफुल्ला लगातार फायरिंग करता रहा. लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके के हाजी कॉलोनी के एक घर में छिपे सैफुल्ला के पास भारी मात्रा में असलाह और गोला बारूद मिला है.एटीएस चीफ असीम अरुण ने बताया की रात के करीब 3 बजे सैफुल्ला को मार गिराया गया. घर की तलाशी लेने पर वहां से ISIS का साहित्य ‘दबिक’ की कई प्रतिया, बम बनाने की सामग्री, करीब 650 राउंड गोलिया, 8 पिस्टल, 2000 के कई नोट, ISIS का काला झंडा, सिम , गोल्ड और पासपोर्ट मिला है. असीम अरुण ने यह भी बताया की सैफुल्ला ISIS के खुरासान मोड्यूल से जुड़ा हुआ था.मालूम हो की ISIS के नक्से में भारत और दक्षिण एशिया के क्षेत्र को खुरासान नाम दिया गया है. भोपाल-उज्जैन एक्सप्रेस में हुए बम विस्फोट के बाद एमपी एटीएस ने मध्यप्रदेश के पीपरिया में चलती बस से कानपुर निवासी दानिश अख्तर , आतिश और अलीगढ निवासी सैयद मीर हुसैन को गिरफ्तार किया. यूपी डीजीपी के अनुसार दानिश इस मोड्यूल का सरगना था और मोड्यूल में करीब 14 से 15 लोग है. बाकी लोगो की भी तलाश की जा रही है.


No comments:

Post a Comment