Monday, 6 March 2017

त्रिपुण्ड्र:

त्रिपुण्ड्र:



त्रिपुण्ड्र को हिंदू धर्म की त्रिदेव अवधारण से जोड़कर देखा जाता है। यह भस्म (राख) से बनी तीन क्षैतिज रेखाओं और एक बिंदु से बनी आकृति होती है। तीन क्षैतिज रेखाओं द्वारा तीन दैवीय शक्तियों सृजक, पालक और संहारक को प्रदर्शित करता है। भस्म शुद्धता, और अहं के विनाश, वैराग्य और कर्म को प्रदर्शित करता है। वहीं बिंदु हमारे भीतर आध्यात्मिक दर्शन की उत्पत्ति को बताता है।

No comments:

Post a Comment