Sunday, 12 March 2017

मायावती नीच बुद्धि को चाहे कितने ही ऊंचे ओहदे पर बैठा दो , अपनी औकात बता ही दी






लहसुन गांठ कपूर के नीर में
बार पचासक धोये मंगाई !!
केसर के पुट देई देई के
चंदन छांव मे लाय सूखाई !!
मोगरे मांही लपेट धरी पर
बास सुवास ना आवन आई !!
वैसे ही नीच को ऊंचे की संग
करो पर, गंग कुटेव ना जावन जाई !!

No comments:

Post a Comment