Tuesday, 7 March 2017

दिल्ली के स्कूलों को धर्मान्तरण का अड्डा बना रहा अरविन्द केजरीवाल

दिल्ली के स्कूलों को धर्मान्तरण का अड्डा बना रहा अरविन्द केजरीवाल

अब ईसाई मिशनरी बन गयी दिल्ली सरकार : माँ सरस्वती की जगह धर्मान्तरण कराने वाली टैरेसा



फोर्ड फाउंडेशन और अलग अलग विदेशी NGO का एजेंट रहा केजरीवाल अब दिल्ली सरकार में भी वही एजेंडा चलाने लगा है
और अब तो हद ही हो गयी, क्योंकि भारतीय संस्कृति का भी नाश अरविन्द केजरीवाल ने शुरू कर दिया है, और ईसाई मिशनरी ही बन गयी है दिल्ली सरकार

माँ सरस्वती भारतीय संस्कृति की पहचान है, और विद्या की देवी हैं
उनके चित्र और मूर्तियां आम तौर पर स्कूलों में लगाई जाती है, भले ही ईसाई और इस्लाम धर्म कहे जाते हो, पर ये भारतीय धर्म नहीं बल्कि बाहरी है
भारतीय संस्कृति का मतलब है सनातन धर्म, और भारतीय धर्म

अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के सरकारी स्कूलों से माँ सरस्वती की फोटो और मूर्तियों को धीरे धीरे हटवा रहा है, और उसकी जगह ईसाई मिशनरी चलाने वाली टेरेसा की मूर्तियां और फोटो लगवा रहा है

आम तौर पर इस तरह की चीजे कान्वेंट और ईसाई स्कूलों में नजर आती है
जहाँ हिन्दुओ बच्चों को पढाई कम और ईसाइयत का पाठ अधिक पढ़ाया जाता है धर्मान्तरण के लिए उकसाया जाता है

और इसी काम का जिम्मा अब कदाचित अरविन्द केजरीवाल ने लिया हुआ है, अब दिल्ली के सरकारी स्कुल भी ऐसे हो चले है जैसे ईसाई मिशनरी वाले कान्वेंट स्कुल हो
आम तौर पर सरकारी स्कूलों में गरीब बच्चे पढ़ते है, और ईसाई मिशनरियां मुख्यतः धर्मान्तरण के लिए गरीब हिन्दुओ को ही निशाना बनाती है, उनको प्रोलोभन देती है

अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के सिविल लाइन्स में रहता है, और हर रविवार उसके घर में स्थानीय चर्च से प्रीस्ट भी आता है, केजरीवाल का पूरा परिवार ईसाइयत का पालन करता है, ये भी बता दें की केजरीवाल रोम भी गया था, जब टेरेसा को ईसाई पोप संत की उपाधि दे रहा था

केजरीवाल के इन कारनामो से अधिकतर लोग वाकिफ नहीं है
अगर विरोध न किया गया तो बड़े पैमाने पर दिल्ली में धर्मान्तरण का धंधा करवाएगा अरविन्द केजरीवाल


No comments:

Post a Comment