Friday, 17 March 2017

यादव कौन है YADAV KOUN HAI

THE REAL YADAV

यदुवंशी क्षत्रिय राजपूत(THE REAL YADAV)---------

अगर कोई असहमति अथवा नवीन जानकारी हो तो कमेंट के माध्यम से सभ्य शब्दों में जरुर अवगत कराएं,आपका स्वागत है......
आज हम आपको सच्चे यदुवंशी क्षत्रिय राजपूतो और आजकल छदम यादव उपनाम लिखने वालो के बारे में सटीक जानकारी देंगे।
जब जब धर्म की हानि होती है अधर्म का जोर बढ़ता है तो भगवान नारायण क्षत्रिय वर्ण में अवतार लेकर आतताइयों का संहार करते हैं.क्षत्रियों में सुर्यवंश की रघुवंश शाखा में भगवान श्री राम के रूप में और चन्द्रवंश की यदुवंशी शाखा में योगिराज श्री कृष्ण के रूप में नारायण ने अवतार लिया..........
श्रीकृष्ण अवतार पूर्ण अवतार माना जाता है.श्री कृष्ण ने कंस जैसे अत्याचारी का वध किया और महाभारत के युद्ध में पांड्वो का पक्ष लेकर धर्मयुद्ध में सहायक बने.
श्री कृष्ण के जीवनकाल में ही गांधारी के श्राप से यदुवंश में गृह युद्ध हुआ जिससे यदुवंश का विनाश हो गया.....

श्रीकृष्ण का बाल्यकाल में लालन पालन नन्दबाबा के यहाँ हुआ था,नन्दबाबा गोकुल में अहीरो से कर वसूलने का कार्य करते थे,जबकि श्री कृष्ण यदुवंशी क्षत्रिय थे.....
पर पिछले सौ सालो से सभी अहीरों ने भगवान् श्री कृष्ण से जोड़कर खुद को यादव लिखना शुरू कर दिया है.....पर ये एक ऐसा झूठ है जिसने सच का रूप धारण कर लिया है,
जबकि महाभारत के मुसल पर्व में साफ़ लिखा है कि जब अर्जुन बचे हुए यदुवंशी स्त्री बच्चो को द्वारिका से वापस लेकर आ रहे थे तो मार्ग में उन्हें अभिरो अहीरों ने लूट लिया था।
तभी कहा गया कि

" समय होत बलवान,अभीरन लूटी गोपिका वही अर्जुन ,वही बाण!"।
जिन्होंने यदुवंशी स्त्रियों बच्चो को असहाय स्थिति में लूट लिया था विडम्बना देखिये आज वही अहीर यादव उपनाम लिखने लगे और असली यदुवंशी राजपूतो ने भाटी ,जादौन,जडेजा आदि नये उपनाम धारण कर लिए।

19 वी सदी तक भी अहीर खुद को यादव नही मानते थे।रेवाड़ी के यदुवंशी अहीर खुद को राजपूत ही मानते थे जो पितृ पक्ष की और से यदुवंशी राजपूत थे। पर लगभग सन1920 में अहिरो की सभा हुई जिसके बाद ग्वाल ,गोप,अहर,घोसी,कमरिया अहिरो ने अचानक से यादव उपनाम लिखना शुरू कर दिया।
जबकि गुजरात,महाराष्ट्र के अहीर आज भी खुद को यादव नही लिखते हैं।


शुद्ध रक्त के यदुवंशी क्षत्रिय सिर्फ राजपूतो और मराठो में जादौन, भाटी,जडेजा, चुडासमा,जाधव,छोकर,सलारिया
हैहय,कलचुरी,सरवैया आदि वंशो में मिलते हैं,
इन सब यदुवंशी क्षत्रिय शाखाओ और उनकी रियासतों की पूरी डिटेल हम अलग से दंगे।


श्री कृष्ण जी का छत्र जो आज भी जैसलमेर मे श्री कृष्ण जी वंशज भाटी वंश के  राजपूत परिवार पर सुरक्षित रखा हुआ है जो इस बात का सबसे पुख्ता सबूत है कि श्री कृष्ण जी के असली वंशज भाटी है ना कि वो लोग जो तथ्यहीन बाते और लोगो को बरगलाने के स्वघोषित श्री कृष्ण जी के वंशज खुद को बताकर राग अलाप रहे है --!!
हाल ही में गुजरात में न्यायालय द्वारा जाडेजा राजपूतों को श्रीकृष्ण का वंशज होने की मान्यता दी गयी है।



अन्य समाज में यदुवंश या तो राजपूत पुरुषों के उन वर्गों की महिलाओ से अंतरजातीय विवाह से उत्पन्न हुआ है अथवा उन्होंने छदम यदुवंशी का रूप धारण कर लिया है......
कुछ यदुवंशी अंतरजातीय विवाह के कारण जाटों में भी मिल गये हैं,जैसे 

भरतपुर का राजवंश--
करौली के जादौन राजपूत बालचंद्र नेे सोरोत गोत्र की जाट कन्या का डोला लूटकर उससे विवाह कर लिया।उसकी संतान जाटों में मिल गयी और उससे उनमे सिनसिनवार वंश चला और भरतपुर की गद्दी की स्थापना की।
पटियाला,नाभा,जीन्द फरीदकोट की जट्ट सिख रियासते----
जैसलमेर के भाटी राजपूत पंजाब 12 वी सदी में पंजाब आये। इनमे से फूल सिंह ने जाट लडकी से शादी की जिनकी सन्तान आज सिद्धू,बराड आदि जट्ट सिख हैं इन्होने वहां पटियाला,नाभा,जीन्द,फरीदकोट आदि रियासत स्थापित की जो आज फूल्किया कहलाती हैं।जो शुद्ध रहे उन्होंने हिमाचल की सिरमौर रियासत स्थापित की।
एनसीआर के भाटी गुज्जर----
जैसलमेर के रावल कासव और रावल मारव बुलंदशहर आये इन्होने यहाँ धूम मानिकपुर रियासत की स्थापना की जिसमे 360 गाँव थे। पर बाद में यहाँ के बहुत से भाटी राजपूत समीपवर्ती गूजरो से शादी विवाह करके गूजरो में शामिल हो गये और आज भाटी गूजर कहलाते हैं।इस इलाके में और समीपवर्ती पलवल में आज भी भाटी राजपूत पाए जाते हैं।

शेरे पंजाब महाराजा रणजीत सिंह----
स्वयं पंजाब के महाराजा रंजीत सिंह जिनके पूर्वज सांसी जाति के थे और बाद में शक्तिशाली होने के कारण इस वंश के साथ दुसरे सिख जाट मिसलदारो ने शादी विवाह किये जिससे यह सांसी जाति से निकलकर जाटों में शामिल हो गये,यह सांसी जाति अपनी उत्पत्ति सांसमल नाम के भाटी राजपूत से मानती है,इनका वंश सांसी जाति से निकलकर जाटों में संधावालिया कहलाया.
इसी तरह पंजाब और हरियाणा का सैनी(शुद्ध सैनी न कि माली) समुदाय भी मूल रूप से मथुरा का यदुवंशी है 

इसी प्रकार मुस्लिम मेव जाति में भी यदुवंश पाया जाता है।
भारत में शुद्ध क्षत्रिय राजपूत यदुवंशियों की प्रमुख रियासते करौली,जैसलमेर,कच्छ,भुज राजकोट, जामनगर,सिरमौर,मैसूर आदि हैं.
दक्षिण का विजयनगर साम्राज्य, होयसल,देवगिरी आदि भी यदुवंशियो के बड़े राज्य थे।
पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त में भी बड़े बड़े भाटी मुस्लिम राजपूत जमीदार हैं,सिंध में सम्मा,भुट्टो,भुट्टा भी यदुवंशी राजपूत हैं।...
उत्तर पश्चिम भारत के अतिरिक्त महाराष्ट्र में भी मराठा क्षत्रियो में जाधव वंश(यदुवंशी) पाया जाता है.छत्रपति शिवाजी की माता जीजाबाई भी यदुवंशी क्षत्राणी थी,दक्षिण की अर्यासु जाति और राजू जाति में भी यदुवंश मिलता है।
खैर योगीराज श्री कृष्ण ईश्वर का अवतार हैं,उनकी आराधना का अधिकार समस्त सनातन धर्मावलम्बियों को है.....
पर सच क्या है और झूठ क्या है ये सबके सामने आना चाहिए।
सभी यदुवंशी राजपूतो से विनती है कि अपने नाम के आगे शाखा के साथ साथ यदुवंशी जरुर लिखें।
जय श्रीकृष्ण जय राजपुताना।

No comments:

Post a Comment