Monday, 22 August 2016


सेना की मदद के लिए आगे आ रहे लोग, एक बुजुर्ग दंपत्ति ने 40 लाख

रुपये देने की घोषणा की

मोदी सरकार बनने के बाद देश की सेना के प्रति लोगों का प्रेम उफान पर है. हर रोज चिट्ठी और ईमेल के जरिए आम लोग रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से पूछ रहे हैं कि वो सेना के जवानों की मदद के लिए आर्थिक सहायता देना चाहते हैं.

सेना की मदद के लिए आगे आ रहे लोग
कुछ लोग तो ऐसे हैं जो अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा जवानों के लिए हथियार खरीदने के लिए देना चाहते हैं. नागपुर की रहने वाली डॉ. वासंती वैद्य ने मनोहर पर्रिकर को पत्र लिखकर कहा है कि वो अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा देश की सेना के लिए जरुरी हथियार खरीदने के लिए देना चाहती हैं. अपने पत्र में इस महिला ने साफ तौर पर जवानों के लिए हथियार खरीदने के लिए पैसा देने की बात लिखी है. हालांकि रक्षा मंत्रालय ने अपने जवाब में लिखा कि उनके पास ऐसा कोई प्रावधान नहीं है, जिसमें आम नागरिक हथियार खरीदने के लिए पैसा दे सके.

जवानों के कल्याण के लिए दिए 40 लाख
पुणे की एक बुजुर्ग दंपत्ति ने रक्षा मंत्री को ईमेल लिखकर अपनी वसीयत के 40 लाख रुपये सेना के वीर जवानों के कल्याण के लिए देने की इच्छा जताई है. जबकि कोल्हापुर महाराष्ट्र के चंद्रसेन जाधव ने ईमेल के जरिए रक्षा मंत्री को लिखा है कि वो हर साल अपनी आय से एक हजार रुपये जवानों के कल्याण के लिए देना चाहते हैं. ऐसे अकेले चंद्रसेन नहीं है, बल्कि हर रोज रक्षा मंत्री के नाम ऐसे दर्जनों ईमेल और पत्र आ रहे हैं, जिनमें लोग सेना के जवानों की मदद के लिए आर्थिक सहायता देना चाहते हैं.


आयकर में मिलेगी छूट
इसी तरह इंदौर के आरटीआई कार्यकर्ता राजेंद्र गुप्ता और कई और लोगों के सुझाव पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने जनता के द्वारा सेना के लिए राशि जमा करने के लिए आखिरकार सेना के लिए खोला बैंक खाता खोला. रक्षा मंत्री के ओएसडी उपेंद्र जोशी ने ईमेल के जरिए इन लोगों को जानकारी दी कि आर्मी वेलफेयर फंड बैटल कैजुअल्टी के नाम से ये खाता सिंडिकेट बैंक की साऊथ ब्लॉक नई दिल्ली ब्रांच में खोला गया है. जबकि खाता नं- 90552010165915 है. इस खाते में पैसा जमा करने पर आयकर में भी छूट मिलेगी.






No comments:

Post a Comment