Saturday, 30 April 2016

सोनिआ गांधी हिन्दुओ के साथ वे करना चाहती थी 
जो बाबर और औरंगजेब  ने  भी  नही किया था 

औरंगजेब  और अन्य मुग़ल तथा मुस्लिम हमलवारों  ने  भारत में हिन्दुओ  का कत्लेआम किया 
हिन्दू महिलाएं डीके बलत्कार किया मदिर तोड़े  धर्म का नाश किया य सब हम इतिहास पढ़कर जानते है 
परन्तु जो काम  औरंगजेब  ने भी हिन्दुओ की साथ नही किया वे काम सोनिया गांधी की कांग्रेस सरकार हिन्दुओ 
के साथ करना चाहती थी यानि हिन्दुओ का पूरा सफाया 
इसके लिए सोनिआ गांधी और कांग्रेस सरकार ने २ मुख्या षड़यंत्र रचे १ पहला षड़यत्र 
था हिन्दुओ को आंतकवादी  घोषित करना इसके  तरह सरकार ने जिसके गृहमंत्री  सुशिल कुमार शिंदे  थे 
उन्होंने  हिन्दू आतंकवाद  शब्द का प्रयोग किया याद रखे आज ताक  भारत में सरकार ने कभी मुस्लिम आंतकवाद
शब्द का प्रयोग नही किया  षड़यंत्र २००४ में इनके सरकार के बाद ही शुरू हो गए था 
जिसके तरह २००६ मालीगांव  ब्लास्ट समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट हैदराबाद की मस्जिद में ब्लास्ट 
इन सब को करवाकर हिन्दू नेताओं को पकड़ना देश तथा दुनिया में हिन्दू आंतकवाद है ऐसे देखना इस षड़यंत्र में 
सुशील कुमार शिंदे  से पहले चिदबरम  मुख्या रूप  से शामिल थे 
 ब्लास्ट के बाद हिन्दू नेताओं की धरपकड़  हुवी जिनपर  आजतक एक भी साबुत नही मिले 
इसके बाद कांग्रेस ने हिन्दू आतंकवाद शब्द का प्रयोग किया जिस से हिन्दुओ के प्रति  दुनिया में एक सन्देश  जाये 
आपके 
ध्यान रखना चाहिए  की कांग्रेस के राहुल गांधी ने भी हिन्दू आतंकवाद से देश को खतरा हो  ऐसा बयान  दिया था 
२ दूसरा षडयंत्र थे हिन्दुओ के खिलाफ ऐसा कानून की वे आपने ही देश में गुलाम होकर रह जाय वे कानून थे सम्प्रयिकता विरोध कानून  
इस कानून के तरह किसी  भी इलाके  में कोई भी दंगा हो किसी ने भी शुरू किया हो पर उसके लिए हिन्दू दोषी 
ही मान जाएगा  तथा जिस इलाके में दंगा हुवा उस इलाको के हिन्दुओ पर केस चलाया जायेगा 
इस कानून में ये नियम था की अगर दंगा हुवा और हिन्दू महिला का बलत्कार हुवा तो उसे बलत्कार को नही मान जायेगा 
इस कानून के हिसाब से दंगा के समय हिन्दू महिलाएं का बलत्कार कोई जुर्म  नही होगा  मसनल दंगे में खूब करे  हिन्दू महिला का बलत्कार 
इस तरह सोनिया गांधी और कांग्रेस ने भारत  में पहले हिन्दुओ को गुलाम बनने फिर  समाप्तः कर देना षड़यंत्र  रच थे 

No comments:

Post a Comment