Saturday, 1 April 2017

अखिलेश यादव ने 16 नवंबर 2016 को की थी। यह प्रोजेक्ट अभी अधूरा है। इसके लिए 1500 करोड़ रुपये का बजट तैयार किया गया था लेकिन 900 करोड़ रुपये खर्च होने के बाद भी काम संतोषजनक नहीं है।

सपा सरकार के 1500 करोड़ के प्रोजेक्ट गोमती रिवर फ्रंट की जांच के लिए CM योगी ने दिए आदेश

गोमती रिवर फ्रंट की जांच के लिए पहुंचे योगी ने परियोजना की पूरी जानकारी मांगी। उन्होंने अफसरों से एक-एक पैसे का हिसाब देने को भी कहा।
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा सरकार के अहम प्रोजेक्ट गोमती रिवर फ्रंट के निर्माण कार्य में गड़बड़ी आशंका से जांच के आदेश दे दिए हैं। इस हफ्ते की शुरुआत में ही सीएम योगी अपने कुछ मंत्रियों के साथ मौके पर जांच के लिए पहुंचे थे।अचानक दौरे पर पहुंचे थे योगी 27 मार्च को गोमती रिवर फ्रंट की जांच के लिए पहुंचे योगी ने परियोजना की पूरी जानकारी मांगी। उन्होंने अफसरों से एक-एक पैसे का हिसाब देने को भी कहा। उस दिन करीब आधे घंटे तक चली बैठक के बाद अफसरों से जवाबों से सीएम योगी खुश नहीं नजर आए और आखिरकार शनिवार को उन्होंने परियोजना की जांच के आदेश दे दिए।
बजट पर उठाए थे सवाल सीएम योगी ने परियोजना के बजट पर सवाल उठाए थे और कहा था कि जरूरत से ज्यादा पैसा इस प्रोजेक्ट को दिया गया है। उन्होंने अधिकारियों से प्रोजेक्ट नया बजट तैयार करने को भी कहा। योगी ने निर्देश दिया कि गोमती नहीं में एक भी नाले का पानी नहीं गिरना चाहिए।प्रोजेक्ट में खर्च हो चुके हैं 900 करोड़ बता दें कि गोमती रिवर फ्रंट परियोजना की शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 16 नवंबर 2016 को की थी। यह प्रोजेक्ट अभी अधूरा है। इसके लिए 1500 करोड़ रुपये का बजट तैयार किया गया था लेकिन 900 करोड़ रुपये खर्च होने के बाद भी काम संतोषजनक नहीं है। 
बजट में कटौती हाल ही में प्रदेश के सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने गोमती रिवर फ्रंट के बजट को लेकर कहा कि पिछली सरकार ने आंख मूंदकर पैसा बहाया है। उन्होंने कहा कि बजट में जो 300 करोड़ रुपये की कटौती की जा रही है उससे दूसरे काम आगे बढ़ेंगे।

No comments:

Post a Comment