Monday, 3 April 2017

मसरत कश्मीर में लोगों को भड़का कर हिंसा फैलाने का मुख्य आरोपी है

जेल में बंद कट्टर अलगाववादी मसरत आलम के पास मिले सेलफोन, पाकिस्तानी हैंडलर्स से करता था संपर्क!

जम्मू-कश्मीर के बारामुला जिले की एक जेल में चेकिंग के दौरान 16 मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं. जेल अधिकारियों के मुताबिक जेल में बंद आतंकवादी और अलगाववादी नेता पाकिस्तान में बैठे अपने आकाओं के साथ मोबाइल फोन के जरिए संपर्क में थे.इस बात का खुलासा तब हुआ जब पुलिस ने जेल परिसर में छापा मारकर कैदियों के पास से 16 सेल फोन बरामद किए. पुलिस ने बताया कि कुछ दुर्दांत आतंकवादी और अलगाववादी कैदी इन फोनों के जरिये पाकिस्तान में अपने हैंडलर्स के संपर्क में रह रहे थे और राज्य में अशांति पैदा करने की कोशिशों में जुटे रहते थे.इन फोनों के जरिये कुछ व्हाट्सएप कॉल पाकिस्तान में किए गए थे और पुलिस उन डाटा को खंगालने की कोशिश कर रही है.जेल में कुछ आतंकवादी भी कैद हैं और उनके पास से भी फोन बरामद हुए हैं. उनके फोन में व्हाट्सएप भी हैं कुछ पाकिस्तानी नंबरों से संपर्क में थे.
मसरत कश्मीर में लोगों को भड़का कर हिंसा फैलाने का मुख्य आरोपी है
दो सेल फोन कट्टर अलगाववादी मसरत आलम के पास से बरामद हुए हैं. वह 2010 में कश्मीर में लोगों को भड़का कर हिंसा फैलाने का मुख्य आरोपी है.
साल 2015 में राज्य सरकार ने उसे जेल से रिहा कर दिया था, जिसके फौरन बाद उसने श्रीनगर में पाकिस्तान के समर्थन में एक रैली का नेतृत्व किया था. इसे लेकर काफी राजनीतिक विवाद हुआ था और केंद्र सरकार के दबाव के बाद उसे फिर से गिरफ्तार कर लिया गया.एसएसपी इम्तियाज हुसैन ने कहा कि मसरत आलम के पास से भी कुछ चीजें बरामद हुई हैं. इस मामले में जो भी कानूनी कार्रवाई संभव है, वह की जाएगी.
दरअसल पिछले हफ्ते कुछ आतंकियों ने जेल के अधिकारी के घर जाकर धमकी दी थी कि अगर जेल में कैदियों को परेशान किया गया तो अंजाम बुरा होगा. हमलावरों ने जेल अधिकारी के कार को भी आग के हवाले कर दिया था, करीब दर्जन भर बदमाश पुलिस अधिकारी के घर घुसकर मारपीट और तोड़ फोड़ की थी.

No comments:

Post a Comment