Sunday, 9 April 2017

अलवर हमले के बाद आज़म ने वापस भेजी शंकराचार्य की गाय, कहा- गोरक्षकों से डर

सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान ने रविवार को गोवर्धन पीठ के शंकराचार्य स्वामी अधोक्षजानंद महाराज से उपहार में मिली गाय लौटा दी. 
सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान ने रविवार को गोवर्धन पीठ के शंकराचार्य स्वामी अधोक्षजानंद महाराज से उपहार में मिली गाय लौटा दी. उन्होंने यह कहा कि उन्हें बदनाम करने के लिए कोई भी स्वयंभू गौरक्षक गाय की हत्या कर सकता है.
उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री ने हिंदू संत को लिखे एक पत्र में कहा, मुस्लिम असुरक्षा के माहौल में रह रहे हैं... कोई भी स्वयंभू गौरक्षक मुझे या मुस्लिम समुदाय को बदनाम करने के लिए उसे नुकसान पहुंचा सकता है या फिर इस खूबसूरत और लाभकारी गाय की हत्या भी कर सकता है.
आजम खान का कहना है कि राजस्थान के अलवर में गाय पालने के लिए ले जा रहे मुस्लिमों पर स्वयंभू गोरक्षकों ने हमला कर दिया. बेरहमी से की गई पिटाई से पहलू खान की मौत हो गई. उन्होंने कहा कि यह हमला मुस्लिमों के लिए संदेश है कि वह गाय न पालें.
बता दें कि हिंदू संत ने अक्टूबर 2015 में तब खान को काले रंग की यह गाय गिफ्ट की थी, जब उन्होंने अपनी डेयरी में एक गाय रखने की इच्छा जतायी थी. तभी से यह गाय और उसका बछड़ा आजम खान के तबेले में पल रही थी.
सपा नेता ने शंकराचार्य से कहा कि उन्होंने गाय का अच्छी तरह से पालन-पोषण किया और गाय को उसकी सुरक्षा के मद्देनजर लौटाया जा रहा है. उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि गाय को दोपहर में संत को सुरक्षित भेज दिया गया.
खान ने आरोप लगाया कि देश में मुस्लिमों के खिलाफ एक कुटिल दुष्प्रचार शुरू किया गया है और उनकी हालत दासों से भी बदतर हो गई है. उन्होंने राज्य सरकार पर दोहरा मापदंड अपनाने का आरोप लगाया और कहा वीवीआईपी को मांस का सेवन करने की इजाजत है. लेकिन आम लोगों को बेवजह परेशान किया जा रहा है और यहां तक कि उनका सफाया कर दिया जा रहा है.

No comments:

Post a Comment