Friday, 7 April 2017

ममता बनर्जी को रामनवमी में एक वर्ग का शौर्य दिखाना शायद रास नहीं आया

जो कहा था वो कर डाला ममता बनर्जी ने . बंगाल में भाजपा नेता दिलीप घोष पर मुकदमा दर्ज . रामनवमी का जुलूस बना अपराध
ममता बनर्जी को रामनवमी में एक वर्ग का शौर्य दिखाना शायद रास नहीं आया . उनके मुकदमे दर्ज कराने वाली घोषणा के बाद उत्साहित वर्ग विशेष ने भाजपा नेताओं और हिन्दू संगठन पदाधिकारियों पर मुकदमे दर्ज करवाने शुरू कर दिए .  इस श्रृंखला में सबसे पहला नाम आया बंगाल में हिन्दुओं को एक करने का प्रयास कर रहे श्री दिलीप घोष का . दिलीप घोष पर खड्ग पुर टाऊन के अंदर जुलूस में तलवार , गदा जैसे अस्त्रों के प्रयोग का आरोप लगा कर मुस्लिम वर्ग को भयभीत करने का आरोप लगा कर मुकदमा दर्ज कराया गया है . शिकायत में ये भी कहा गया कि दिलीप घोष खुद नेतृत्व कर रहे थे सशस्त्र जुलूस का और खुद दिलीप के हाथ में गदा थी . भाजपा ने इसे ममता बनर्जी का क्रूर बदला बताते हुए कहा कि शायद ममता बनर्जी ने सभी शस्त्रों के पेटेंट करवा लिया है . भाजपा ने आगे कहा कि ममता बनर्जी को तब नहीं दिखाई देता जब चुनाव आदि में उनके कार्यकर्ता खुलेआम हथियार लहराते हुए तांडव करते हैं . भाजपा नेता ने आगे कहा कि पूरी दुनिया देखना चाहती है कि जिस दिन मुसलमानो के जुलूस निकलेंगे क्या उस दिन भी ममता बनर्जी ठीक ऐसे ही कार्यवाही करती हैं ..  इसी क्रम में भाजपा ने कहा कि हिन्दुओं का एक होना ममता बनर्जी को रास नहीं आ रहा है . वो याद रखें कि हिन्दुओं की एकता और अखंडता के लिए वो कोई भी त्याग या बलिदान देने को तैयार हैं .. 



No comments:

Post a Comment