Friday, 10 February 2017

पंडित दीनदयाल उपाध्याय की रहस्य आज तक अनसुलझी है

आज तक अनसुलझी है पंडित दीनदयाल उपाध्याय की रहस्य




आज तक अनसुलझी है पंडित दीनदयाल उपाध्याय की रहस्यमयी मौत की गुत्थी….

दस फरवरी १९६८ की काली सियाह रात सियालदाह एक्सप्रेस लखनऊ से पटना की ओर दौडी.चली जा रही थी.फर्स्टक्लास के केबिन बी में से एक यात्री पहले ही उतर चुका थाबस एक यात्री ही बचा था जो इस बात सेअनजान था कि वह भी चिरनिद्रा में लीन होने वाला है.
अगली सुबह मुगल सराय रेल्वे स्टेशन के पिलर क्रमाँक १२७६ के पास पटरियों के बीच एक शव पडा.थारेलगाडि.यों की आवाजाही लगी हुई थी आसपास शोर शराबा थापटरियों के पास पडे.शव पर जब रेल कर्मचारियों कीनजर पडी तो वे उसे स्टेशन पर लाकर रख दिया. श को देखने भीडलग गई थी.
तभी पास से गुजरते हुए  युवक की नजर शव पर पडी.वह चीख उठाअरे यह तो अपने पंडित जी हैंदीनदयाल जी….हे भगवान ऐसा कहते हुए वह टेलीफोन बूथ की तरफ दौडाऔर हाँफते हुए बोला अरे जल्दी आओ अपनेदीनदयाल जी का शव यहाँ स्टेशन पर पडा हैदीन दयाल जी सचमुच नहीं रहेउनकी मौत कैसे हुईआज भी उनकी मृत्यु का रहस्य बरकरार है……..

एकात्म मानवदर्शन अनुसँधान एवं विकास प्रतिष्ठानके अध्यक्ष डामहेशचंद्र शर्मा कहते हैं कि उनकी मौत का कारण स्पष्ट नहीं हुआ है किन्तु शक बना हुआ है कि वे किसी षड.यंत्र का शिकार हुए हों
चिंतक एवं विचारक के.एन.गोविंदाचार्य का कहना है किजिस प्रकार उनका शव मिला वह रेल्वेलाईन के पैरेलल थाहाख पैर मुडे.हुए एवं बिछी हुई चादर .हाख में कुछ रखा थावह संदेह पैदा करता हैएक थ्योरी यह भी दीगई कि उन्हें किसी नें धक्का दे दिया पर ये मानने कोई भी तैयार नहीं कि वे चलती गाडीसे गिर गयेक्योंकि कोई कारण नहीं था आधी रात के समय उनके डिब्बे के दरवाजे पर खडेहोने का……..इस मामले में हत्या केसंदेह के कई राजनीतिक कारणों पर काफी बहस हुई पर आज तक उनकी मौत का रहस्य बरकरार है
यदि इसे हत्या माना जाये तो यह हत्या क्यों की गई इस बात का खुलासा आज तक नहीं हो पाया है। इससे पहले जनसंघ के ही डॉश्यामाप्रसाद मुखर्जी की कश्मीर में रहस्यमयी हालात में मौत हो गई थी। तत्कालीनसरकार ने इस मामले की जांच भी कराई थी पर कोई नतीजा नहीं निकला। भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा था पंडित दीनदयाल उपाध्याय की हत्या वामपंथियों ने कराई थी। उन्होंने यह भी कहा था कि पंडितजी केसाथ जो लोग ट्रेन के आरक्षित डिब्बे में यात्रा कर रहे थेजांच में उन सभी के नाम और पते फर्जी पाए गए।

हालाँकिपूरा देश और दुनिया भर के राजनीतिक पंडित उन्हें जनसंघ के पुरोधा के रूप में जानते हैं पर दीनदयाल जी मूलत एक स्वयंसेवक ही रहेजनसंघ के महामंत्री बनने के बाद संघ की शाखाओं में अधिकाँशत वेआरएसएस पर ही बात किया करते थेउनकी हत्या के समय जो ट्रंक मिला उसमे सँघ का गणवेश आदि सामान के अलावा कुछ ही अन्य सामान था.

वे नेता होने कारण स्वयंसेवक नहीं थे बल्कि संवयंसेवक होने के कारण नेता थेगोविंदाचार्य कहते है कि संघ का स्वयंसेवक जो देश के परमवैभव की इच्छा से काम कर रहा है वह प्रचारक है और वह राजनीतिक क्षेत्र मेंलगाया गया है ये भाव था दीनदयाल जी का.

No comments:

Post a Comment