Wednesday, 15 February 2017

कांग्रेस ने दिया देश को इतना बड़ा धोका

फाँसी  से नहीं डेंगू से मरा कसाब 

कांग्रेस  ने दिया देश को इतना बड़ा धोका :
अभी तक  तो कांग्रेस केवल अपने ब्रश्टाचार और घोटालो के लिए ही मशहूर थी मगर अब कुछ ऐसा सामने आ रहा है जिस पर विश्वास करना भी बेहद कठिन है . हेरात अंगेज और संसनीखोज रिपोर्ट को पड़े  अपनी आखो पर    यकीन नहीं होगा .कसाब की फाँसी के नाम पर फरेब 
याद होगा पाकिस्तानी आतंकियों ने २६ नवम्बर ,२००८ में मुम्बई में आतंकी हमला किया था .
इस हमले में जिन्दा पकडे गए  एकलौते  अटके अजमल कसाब की फाँसी की फाँसी को लेकर अब सवाल खड़ा हो गया है .कुछ मीडिया रिपोर्टर में दावे किये जा रहे है की आतंकी कसाब को दरअसल कभी फाँसी दी ही नहीं  गयी . बल्कि फाक्सी के नाम पर कांग्रेस द्वारा देश की जन्नत की आखो में धूल झोंकी गयी ..
२१ नवम्बर २०१२ को सुबह सुबह अचानक से इस बात का खुलासा किया गया की अजमल कसाब को पुणे की येरवडा जेल में फाँसी दे दी गयी  जिसके पूछे सुरक्षा और साम्प्रदयिक सौहार्द   बनाये रखने का कारण दिया गया था 

आर्थर रोड जेल के कर्मचारी ने खोली पोल 
लेकिन मीडिया रिपोर्टर्स में अब दावा किया जा रहा है की कसाब के मौत फाँसी से नहीं बल्कि किसी अन्य 
वजग से हुई  थी ये दावे किसी और के नहीं बल्कि मुम्बई की आर्थर रोड जेल के ही कुछ कर्मचारी के हवाले 
से सामने आ रहा है 

रिपोर्टर्स ने सवाल खड़े किये जा रहे है की पहले तो कांग्रेस सरकार कसाब की खातिरदारी में वस्थ  थी 
उसके लिए मुम्बई की आर्थर रोड जेल में काफी इंतज़ाम भी किया गया थे . उसे रखने के लिए एक अलग 
सेल रक् बनाई गयी थी . इरना सब करने के लिए सरकार ने करोडो रुपए खर्च किये थे . एक आतंकी पर
देश का इतना पैसा खर्च करने के लिए इसके लोए यूपीए सरकार को काफी आलोचना का सामना भी करना पड़ा था . तो फिर आखिर एक एक ऐसा क्या हो गया की सरकार ने अचानक उसे सबसे पहले फाँसी पर 
चढाने का फैसला कर लिया ...?

यूपिए  सरकार के तर्क यकीन के लायक नहीं 

सबसे पहले तो आनन् -फानन में कसाब को मुम्बई की आर्थर रोड जेल से पुणे की येरवार जेल भेज गया और 
इसके लिए यूपीए  सरकार ने तर्क दिया की मुम्बई में कोई जल्लाद नहीं था .. इसलिए कसाब को फाँसी देने के लिए पुणे की जेल भेज गया 

फाँसी  से नहीं डेंगू से मरा कसाब दावा किया जा रहा है की दरअसल मुम्बई की जेल में कसाब को डेंगू  हो गया था इलाज़ में कुछ लापरवाही के कारण कसाब की तबियत काफी बिगड़ गई. और इलाज़ के दौरान ही वे 
मर गया कांग्रेस सरकार को लगा की यदि ये खबर बहार आ जाती है . तो इससे लोगो में संदेह जाएग क़ि 
कांग्रेस मुम्बई हमले लो इकलौते जिन्दा बचे आरोपी को भी सजा नहीं दे पायी . इसलिए सुनियोजित षड़यंत्र 
के तरह एक झूठी  कहानी रची गई 

कांग्रेस सरकार आतंवादी के खिलाफ बेहद सख्त है जबकि सचाई इससे कोस दूर थी २०१४ लोकसभा चुनाव 
के लिए कांग्रेस ने अपनी इमेज सुधाने के लिए इरना बड़ा झूठ बोला एक न्यूज़ वेबसाइट ने दावा किया है 
क़ि वास्तव में तो कसाब मुम्बई के ही मर चूका था जेल प्रशासन ने तो केवल उसका शव पुणे ले गए थे 

No comments:

Post a Comment