Wednesday, 29 March 2017

12 injured as 8 coaches of Mahakaushal express derailed near Kulapahar in Mahoba, earlier today.

महोबा के पास दो हिस्सों में बंट गई महाकौशल एक्सप्रेस, 22 यात्री हुए घायल

इसके अलावा 20 मार्च 2015 को देहरादून से वाराणसी जा रही जनता एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी. इस हादसे में 34 लोग मारे गए थे. यह हादसा रायबरेली के बछरावां रेलवे स्टेशन के पास हुई हुआ था.
हेल्पलाइन नंबर
झांसी: 0510-1072
ग्वालियर: 0751-1072
बांदा: 05192-1072
नई दिल्ली रेलवे स्टेशन: 22623
नई दिल्ली पीएनटी: 011-23341072, 011-23341074, 011-23342954

हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन: 72510, 72389
हजरत निजामुद्दीन पीएनटी: 011-24359748
उत्तर प्रदेश के महोबा में गुरुवार तड़के जबलपुर-महाकौशल एक्सप्रेस (12189) महोबा के नजदीक दुर्घटनाग्रस्त हो गई है. इस हादसे दुर्घटना में ट्रेन की 8 बोगियां पटरी से उतर गई हैं, जिससे कम से कम 22 लोग घायल हो गए.
यह रेल दुर्घटना महोबा-कुलपहाड़ रेलवे स्टेशन के बीच रात दो बजे के लगभग हुई. आपको बता दें कि दुर्घटनाग्रस्त ट्रेन जबलपुर से निजामुद्दीन जा रही थी. हालांकि हादसे के वक्त ट्रेन की रफ्तार काफी कम थी, इस वजह से किसी को गंभीर चोटें नहीं आई हैं.
ई ट्रेनें रद्द, कुछ का बदला रद्द
इस रेल हादसे के बाद बांदा-झांसी रेल लाइन बंद हो गई है और झांसी से होकर गुजरने वाली कई ट्रेनें रद्द कर दी गई है. इसके अलावा आधा दर्जन ट्रेनों का रूट बदल कर अब उन्हें कानपुर के रास्ते बांदा लाया जा रहा है. इन ट्रेनों में बनारस से ग्वालियर जाने वाली बुंदेलखंड एक्सप्रेस, मानिकपुर से दिल्ली के निज़ामुद्दीन स्टेशन जाने वाली यूपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस, ग्वालियर से हावड़ा जाने वाली हावड़ा एक्सप्रेस शामिल हैं, जिन्हें कानपुर के रास्ते बांदा और दिल्ली भेजा जा रहा है. इसके अलावा बांदा-झांसी पैसेंजर ट्रेन को रद्द कर दिया गया है.
राहत कार्य में जुटा प्रशासन
जानकारी के मुताबिक यह दुर्घटना महोबा और कुलपहाड़ के बीच गेट न. 420 पर 02:07 बजे हुई. ट्रेन के पीछे के 8 डिब्बे पटरी से उतर गए. दुर्घटनाग्रस्त डिब्बों में 4 AC (A-1, B-1, B-2, B-extra), 1 स्लीपर (एस-8), 2 सामान्य यात्री कोच और एक एसएलआर है. दुर्घटना में कुछ यात्री मामूली रूप से घायल हुए हैं. हालांकि किसी के गंभीर घायल होने या मौत की खबर नहीं है. राहत और बचाव कार्य जारी है. महोबा के डीएम के अलावा डीआरएम झांसी और जीएम एमसी चौहान भी घटनास्थल पहुंच चुके हैं. घायलों के उपचार के लिए झांसी और महोबा से दुर्घटना राहत चिकित्सा वैन भी भेजी गई.
वहीं यूपी प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने महोबा में हुई रेल दुर्घटना का संज्ञान लेते हुए यहां के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए हैं कि घायलों के इलाज में किसी भी प्रकार की लापरवाही न होने पाए. उन्होंने महोबा के सारे डॉक्टरों को अस्पताल में मौजूद रहने के निर्देश दिए हैं. सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि 21 एम्बुलेंसों के जरिये घायल लोगों को अस्पताल पहंचाया गया, जिसमें से एक की हालत गम्भीर बनी हुई है.
रफ्तार धीमी होने से टला बड़ा हादसा
बताया जा रहा है कि महोबा स्टेशन से चलने के 10 किलोमीटर के बाद ही ट्रेन पटरी से उतर गई है. उस समय ट्रेन की रफ्तार बहुत कम थी, वरना बड़ा हादसा हो जाता. पटरी से उतरने के बाद महाकौशल एक्सप्रेस दो भागों में बंट गयी थी. इंजन बाकी बोगियों को लेकर आगे चला गया था और छह डिब्बे जो बेपटरी हो गए थे वो पीछे छूट गए थे.
महोबा के एसपी गौरव सिंह से हुई बातचीत के मुताबिक अभी तक दुर्घटना में किसी के जान जाने की जानकारी नहीं है. राहत एवं बचाव कार्य तेजी से चल रहा है. 10 घायलों को नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
हाल ही में हो चुके तीन बड़े रेल हादसे
हालिया ट्रेन हादसों पर नजर डालें तो इसी साल 22 जनवरी को आंध्र प्रदेश में विजयनगरम जिले के कुनेरू स्टेशन के पास जगदलपुर- भुवनेश्वर हीराखंड एक्सप्रेस (18448) दुर्घटनाग्रस्त होने से 32 लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी जबकि 50 से ज्यादा लोग घायल हुए थे.
पिछले साल 20 नवंबर 2016 को यूपी के कानपुर के पास पुखरायां में बड़ा रेल हादसा हुआ था. इस रेल हादसे में 150 से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे.
इसके अलावा 20 मार्च 2015 को देहरादून से वाराणसी जा रही जनता एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी. इस हादसे में 34 लोग मारे गए थे. यह हादसा रायबरेली के बछरावां रेलवे स्टेशन के पास हुई हुआ था.

No comments:

Post a Comment