Friday, 24 March 2017

भारत माता है अथवा पिता है इस बहस के बीच यह सवाल जोर से उठ जाना चाहिये कि भारत माता हो या पिता मगर उसकी डेढ करोड़ संतान वैश्या क्यों है ?

जिस देश में गंगा माता है, गाय माता है, धरती माता है वहां डेढ़ करोड़ औरत वैश्या क्यों है ?

भारत में डेढ करोड़ वैश्याऐं हैं यह संख्या कई देशों की की कुल जनसंख्या से भी अधिक है। इस देश में गंगा (नदी) माता है, गाय (जानवर) माता है, धरती माता है।
संविधान क्या कहता है ? 
गांधी जी क्या कहते थे ? 
बुद्ध क्या कहते थे ? 
अल्लाह के 99 नाम हैं ? 
प्लास्टिक सर्जरी भारत में हजारों साल से रही है 
गणेश जी की नाक प्लास्टिक सर्जरी से लगवाई गई थी। 
मेरी मत राष्ट्रपति की सुनो ? 
इन सब बातों को सुनकर भक्त भले ही हर हर मोदी करके छाती पीटते हों 
मगर इस देश का एक बहुत बड़ा तबका है जो इतने भर से संतुष्ट नहीं है। वह तबका जानना चाहता है कि जिन साहित्यकारों ने आवार्ड लौटाये हैं  वह तबका सुनना चाहता है कि अखलाक के हत्यारों के बारे में मोदी क्या कहते है ? वह तबका सुनना चाहता है कि थोक में बांटे जा रहे देशभक्ती की सर्टिफिकेट के बारे में मोदी क्या कहते है ?
भारत माता की जय के नाम पर इंसानों की मां को दी जा रहीं गालियों के बारे में मोदी क्या कहते है ? अपनी सरकार का सिर्फ एक ही मज्हब इंडिया फर्स्ट बताने वाले मोदी हिंदुत्व के नाम पर (गौ रक्षा) की जा रही हत्याओं के बारे में क्या कहते हैं ? सवालों की फेहरिस्त बहुत लंबी है और ये सवाल उस तबके हैं जो किसी भी सरकार अथवा व्यक्ति विशेष का भक्त नहीं है बावजूद इसके उस तबके को मोदी भक्त हिंदु विरोधी या देशविरोधी कहकर संबोधित करते हैं। मोदी उपदेश देने के लिये प्रधानमंत्री नहीं बने हैं बल्कि परिवर्तन लाने के लिये प्रधानमंत्री बने हैं। मगर जैसा परिवर्तन उनके पाले हुऐ गुंडे इस देश में करना चाहते हैं वैसा परिवर्तन इस देश को हरगिज नहीं चाहिये।


No comments:

Post a Comment