Wednesday, 29 March 2017

दुनिया का सबसे बड़ा राम मंदिर

 दुनिया का सबसे बड़ा राम मंदिर
Patna : मोतिहारी में बनने वाला विश्व का सबसे ऊंचा विराट रामायण मंदिर धर्मनिरपेक्षता की मिसाल बन सकता है। ऐसा माना जा रहा है कि इस मंदिर का निर्माण कार्य पांच साल में पूरा हो जाएगा।
अभी के सबसे बड़े मंदिर कंबोडिया स्थित 'अंगकोर वाट' से दोगुना ऊंचा होगा। 200 एकड़ में बनने वाले इस मंदिर की ऊंचाई 440 फीट होगी। इसमें एक साथ 20000 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी। लेकिन निर्माण से पहले ही मंदिर के लिए प्रस्तावित मिट्टी सांप्रदायिक सौहार्द का प्रतीक बन चुकी है।
अगले साल होली के त्योहार के बाद मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा, क्योंकि कंबोडियाई सरकार की आपत्तियों के बाद मूल योजना में संशोधन किया गया है। बता दें कि कंबोडिया ने प्रस्तावित मंदिर को अंगकोर वाट मंदिर की नकल बताते हुए आपत्ति जताई थी।
मुसलमानों ने भी इसके लिए जमीन दान में दी है। जमीन दान देने की प्रक्रिया भूमि पूजन (21 जून 2012) से पहले ही पूरी की जा चुकी है। अब निर्माण की कवायद तेज की गई है। हाल में विशेषज्ञों की टीम ने स्थल का निरीक्षण कर जमीन का हाल जाना है।
केसरिया के समीप बहुआरा कैथवलिया गांव में प्रस्तावित विश्व के सबसे ऊंचे विराट रामायण मंदिर के निर्माण को लेकर 17 मई को विशेषज्ञों के दल ने स्थल भ्रमण कर अंतिम रूप से निर्माण कार्यों की तैयारियों की समीक्षा शुरू कर दी है। इस संबंध में बिहार राज्य धार्मिक न्यास पर्षद के अध्यक्ष किशोर कुणाल ने बताया कि भूकंप जैसी आपदा को ध्यान में रखकर इसकी रूपरेखा की समीक्षा की जा रही है।
इस मंदिर की ऊंचाई 405 फीट निर्धारित की गई थी। मगर तकनीकी कारणों से इसे 380 फीट पर ही रोकना पड़ा। बावजूद इसके मंदिर की वैश्विक श्रेष्ठता प्रभावित नहीं होगी। बिहार राज्य धार्मिक न्यास पर्षद के अध्यक्ष बताते हैं कि इसके लिए तकनीकी विशेषज्ञों की राय ली जाएगी।
मंदिर निर्माण को लेकर अब कहीं कोई अड़चन नहीं है। इसके लिए करीब 150 एकड़ भूमि का निबंधन कराया जा चुका है। सभी वर्ग के लोगों ने जमीन दान में दी है। इसमें मुसलमान भी शामिल हैं। निर्माण समिति के अध्यक्ष ललन सिंह बताते हैं कि यह मंदिर शुरुआती दौर से ही ङ्क्षहदू 


No comments:

Post a Comment