Friday, 31 March 2017

अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे मो. आज़म खान पर 700 करोड़ रूपये की पंजीरी खाने का आरोप और इसकी ,उधर दूसरी तरफ आज़म खान पर वक्फ बोर्ड की 500 करोड़ रूपये

गर्भवती महिलाओं की 700 करोड़ रूपये पंजीरी खा गये आज़म खान अब हो सकती है जेल ,योगी ने तलब की रिपोर्ट


उत्तर प्रदेश : अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे मो. आज़म खान पर 700 करोड़ रूपये की पंजीरी खाने का आरोप लगा है और इसकी रिपोर्ट फाइल खुद सीएम योगी ने तलब की है ,उधर दूसरी तरफ आज़म खान पर वक्फ बोर्ड की 500 करोड़ रूपये की जमीन बेंचने का भी आरोप लगा है ,वक्फ बोर्ड की जमीन बेंचने का आरोप शिया धर्म गुरु मौलाना कल्बे सादिक ने लगाया है उन्होंने कहा है कि आज़म खान ने गर्भवती महिलाओं में बांटी जाने वाली पंजीरी और वक्फ बोर्ड की जमीन में घोटाला करके जो पैसा कमाया है वो सब अपनी जौहर यूनिवर्सिटी और अपने दूसरे स्कूलों में खर्च कर दिया.मौलाना ने कहा कि सत्ता कि धौंस दिखाकर आज़म खान ने वो कॉलोनी खाली करवाई थी जो वक्फ बोर्ड की जमीन पर बनी हुयी थी
आज़म खान ने कैबिनेट मंत्री रहते हुए वक्फ बोर्ड की ज़मीन पर बनी कॉलोनी पर पुलिस बल का प्रयोग करके JCB मशीन चलवाई और कॉलोनी को खाली करवाया , उसके बाद इस ज़मीन को आज़म खान ने अपने रामपुर पब्लिक स्कूल को दे दी

तो वहीँ आज़म खान ने गर्भवती महिलाओं में बांटी जाने वाली 700 करोड़ रूपये की पंजीरी में भी जमकर घोटाला किया है ,आज़म खान पर आरोप लगा है कि बालविकास और पुष्टाहार विभाग ने बिना टेंडर के ही 700 करोड़ रूपये मूल्य की पंजीरी बाँट दी ,यूपी के नए सीएम योगी आदित्यनाथ ने 700 करोड़ रूपये की पंजीरी के टेंडरों की फाइल मांगी है योगी ने चीफ सेक्रेटरी डिम्पल वर्मा को भी कड़ी फटकार लगायी है।"

आपको बता दें कि ये 700 करोड़ रूपये की पंजीरी की खुली लूट अखिलेश यादव सरकार में की गयी थी इस पंजीरी वितरण के टेंडर 14 अप्रैल 2016 को खत्म हो गये थे मगर इसके बाद भी अखिलेश यादव के मंत्रियों ने खुली लूट जारी रखी थी। 

क्या है ये पंजीरी वितरण कार्यक्रम ?

  • यूपी में बच्चों और गर्भवती महिलाओं को पंजीरी बांटी जाती है 
  • यूपी में करीब पौने दो लाख आंगनबाड़ी केन्द्रों में पंजीरी बांटने का कार्यक्रम है 
  • पंजीरी बांटने का काम बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग करता है  

No comments:

Post a Comment