Tuesday, 21 March 2017

हिन्दुओ में एक खूबी है जलन बहुत होता है किसी के अछाई करना देख कर

योगी को शिवसेना की नसीहत- सूबे को चलाना मठ जैसा आसान नहीं

शिवसेना ने उत्तर प्रदेश के नए सीएम योगी आदित्यनाथ पर करारा हमला बोला है. पार्टी ने अपने मुखपत्र सामना में योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि सूबे को चलाना मठ या पीठ चलाने जितना आसान नहीं हैं. इसमें धर्मनीति की बजाय विकास कार्यों को महत्व देना पड़ता है. नए सीएम को यूपी के लोगों को रोजगार देकर मुंबई का भार हल्का करना होगा.
शिवसेना ने यूपी के नए सीएम को सलाह दी कि योगी को धर्मनीति की बजाय विकास कार्यों को महत्व देकर सूबे को आगे ले जाना होगा. पार्टी ने कहा कि उमा भारती भी मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री बनने के बाद जप-तप में ज्यादा समय देने लगी थीं, जिसके चलते राज्य डगमगा गया. इस इतिहास को उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री को समझना होगा. कानून का शासन यूपी में पूरी तरह से धराशायी हो चुका है. धर्मांध शक्तियों का अत्याचार बढ़ा है और पाकिस्तान के हाथ वहां पहुंच चुके हैं. लिहाजा अब यूपी के नए सीएम को राज्य में दोबारा से कानून व्यवस्था बहाल करनी होगी.
शिवसेना ने सवाल दागा कि बीजेपी किसानों के कर्ज माफ करने के चुनावी वादे का क्या करेगी? यूपी में गरीबी है और रोजगार भी नहीं है. सूबे के लोगों को रोजगार में 90 फीसदी प्राथमिकता की नए सीएम की घोषणा शिवसेना के विचारों की जीत है. यूपी जैसे राज्यों में रोजगार पैदा हुए, तो मुंबई का भार हल्का होगा. मुंबई के उत्तर भारतीयों ने बड़ी संख्या में बीजेपी के पक्ष में मतदान किया है, ताकि वे अपने गांव जाकर सुख और स्वाभिमान के साथ जिंदगी जी सकें.
योगी आदित्यनाथ के आने से राम मंदिर के निर्माण को गति मिलेगी. साथ ही हिंदुत्ववादियों को ताकत मिलेगी. शिवसेना ने कहा कि पेट की आग अहम हैं. ऐसे में नए सीएम को कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी, ताकि सभी के जीवन स्तर को सुधारा जा सके. सभी को रोजगार मिल सकें. इसके अलावा शिवसेना ने यूपी में मुख्यमंत्री बनाए जाने और महाराष्ट्र में उपमुख्यमंत्री नहीं बनाए जाने को लेकर भी बीजेपी को आड़े हाथों लिया.

No comments:

Post a Comment