Monday, 27 March 2017

हिन्दुओ से टेक्स भरी मात्रा में वसूले जाते है पर पूजा पर लगायी जाती है रोक पर बंगाल में बनाया जाता है हज टावर

हिन्दुओ से  टेक्स भरी मात्रा में वसूले जाते है पर  पूजा पर लगायी जाती है रोक पर बंगाल में बनाया जाता है हज टावर 
मक्षिम बंगाल में पिछले ६ महीनो में हुई कुछ घटनाए आपको बताना चाहते है 
1. ये की ममता बनर्जी की सरकार ने बंगाली भाष के रामधेनु ... 
      शब्द की ही बदलकर रोगधेनु  कर दिया 
2 बंगाल से राम बाहर, मम्मी बनीं अम्मी पापा बने अब्बा!
क्या ममता बनर्जी को राम शब्द से इतना नफरत क्यों 
3 पिछले दिनों दुर्गा पूजा और सरस्वती पूजा पर रोक लगवाई  कई जगहों पर हिन्दुओ का सर  फोड़ दिया गया 
लेकिन पूजा नहीं करने दिया गया ...
ममता बनर्जी ने हर साल कुरान पढ़ने के लिए मदरसों के लिए 2815 करोड़ का हर साल इतने पैसे का बजट 
बनाया  इतने करोड़ रुपये मदरसों के दिए ..?
पर 125  उन स्कूल को बंद करने की धमकी दे दी जहा पर रामायण और महाभारत पढ़ाया जाता है 

अम्मा की जगह अम्मी, पापा की जगह अब्बा

बंगाली स्कूली किताबों में हिंदू परिवारों में मां-बाप के लिए इस्तेमाल होने वाले शब्द जैसे मम्मी या अम्मा को हटाकर अम्मी कर दिया गया है। इसी तरह पापा को हटाकर अब्बा कर दिया गया है। ये किताबें अब सभी धर्मों के बच्चों को पढ़ाई जाएंगी। ममता सरकार के इस फैसले से नाराज लोग सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी जता रहे हैं, लेकिन मुख्यधारा मीडिया इस मामले को दबाने की कोशिश में है।

इसके अलावा आसमान के रंग के लिए बांग्ला शब्द आकाशी को हटाकर आसमानी कर दिया गया है। ऐसा इसलिए क्योंकि आसमानी उर्दू का शब्द है। बंगाल में बच्चों की किताबों में ऐसे तमाम बदलाव चोरी-छिपे चल रहे हैं। माना जा रहा है कि ममता बनर्जी सरकार इसके जरिए राज्य की संस्कृति और हिंदू धर्म के निशानों को पूरी तरह खत्म करने पर काम कर रही है

क्या कह रही है ममता सरकार?

ममता बनर्जी सरकार ने इस सारे विवाद पर सफाई दी है और कहा है कि रामधनु का राम या लक्ष्मण से कोई लेना-देना नहीं है। यह धनुष रंगों का होता है इसलिए इसका नाम रंगधनु ही होना चाहिए। सवाल यह है कि वैसे तो यह धनुष भी नहीं होता, फिर क्यों न ‘धनु’ शब्द भी हटा दिया गया। पश्चिम बंगाल शिक्षा परिषद की दलील और भी अजीबोगरीब है। उनका कहना है कि हम नियमित रूप से किताबों को अपडेट करते रहते हैं, उसी के तहत ऐसा किया गया है।
पश्चिम बंगाल में इस्लामीकरण की कोशिशों के 

साथ-साथ हिंदू प्रतीकों को मिटाने का काम भी जोरशोर से चल रहा है। राज्य की ममता बनर्जी सरकार ने इसी कोशिश के तहत स्कूली किताबों से भगवान राम का नाम हटा दिया है। दरअसल आसमान में दिखने वाले सतरंगे इंद्रधनुष को बंगाल में ‘रामधनु’ कहा जाता है। सातवीं क्लास की किताब में इसके बारे में बताया गया है। ममता बनर्जी सरकार ने किताब के नए संस्करण में ‘रामधनु’ को बदलकर ‘रंगधनु’ कर दिया है। (इसी पेज पर नीचे देखें पूरी तस्वीर)


                                                ये तस्वीर
कोलकाता के न्यू टावर में ममता बनर्जी ने नया अलियाह यूनिवर्सिटी बनाया है ... कुल कीमत   859 Cr for minorities, 235.19 Cr for Aliah University in state बजट  इसमें इस्लामिक पढ़ाई होगी 
साथ ही आप नया हज टावर भी देखा सकते है 
ममता बनर्जी ने हजारो करोड़ में यी यूनिवर्सिटी और हज टावर बनवाया है  भारत के सरे हिन्दू सब पूछते है ए पैसा किसका है क्या हमारे टेक्स का पैसा है तो हज और मुस्लिम यूनिवर्सिटी क्यों बनवाया है पक्षिम बंगाल में अधिकतर टेक्स हिन्दू ही देते है , पर पूजा पर रोक लगायी जाती है  सरे टेक्स के पैसे मुस्लिम डेवलपमेंट  लग जाता है 
अब एक सवाल हिंदुस्तान के सरे मीडिया वालो से क्या आप लोग आपने चैनल पर  ममता सरकार का कारनामा क्यों नहीं दिखा सकते क्या मीडिया बिकाऊ है क्या अपनी ज़मीर बेच दिया है 

No comments:

Post a Comment